सैड शायरी हिंदी में, सैड कोट्स, sad shayari and quotes which are very emotional and with deep thoughts, sad shayari written for 2020

सैड शायरी| सैड कोट्स- 2020 Sad Shayari Hindi

SAD SHAYARI with lots of emotions and indepth feelings. Sad Shayari and quotes for broken hearts. Share this Best shayari collection with people who are very sad today. Latest Shayari collection written for 2020.

 

Main itna bhi gunahgaar nhi tha jitna bana diya gaya

Niv me daba that ha aur chhat par saja diya gaya

Kasoor bus mohbbat me sir jhukaane ka tha

Aur nafrat ki aag me jala diya gaya

Beparwaah hai jindagi yaha khidmat kisi -kisi ko hai

Sub tute hai apne me yaha, yaha mohbbat har kisi ko

hai

Talab hai to talabgaar bhi hoga

Makaan hai to kirayedaar bhi hoga

Kyo uljhe ho tum dil ke sawaalo me

Jisne ki hai bewafaai wo thoda wafadaar bhi hoga

 

Akhbaar ke charche aam ho gaye

Jo na the badnaam wo badnaam ho gaye

Lat thi is jamaane me julmo sitam ki

Jo kal tak the dil ke mehmaa ,wo anjaan ho gaye

Ulfat ke daur me hum kya kya nahi hare

Na saahilo ka sailaab mila aur na mile nadi ke kinaare

Takra ke hum bekhudi me ishq kar baihte,

wo gaye sabhi ke ,bus na huwe humare

Hum itne aashan nhi the jo tumhe haasil huwe

Rawayate ko tod kar tere kaabil huwe

Maana khuda bhi tera tha aur khudaai bhi teri thi

Par wo teri duwaaye hi thi ,jo teri kismat me hum shaamil huwe

Takleef khud hi kam ho gayi..

Jab Apno se Ummed Kam Ho gayi..

Kaun hai is dhundh bare sahar me jo humara khayal puchega

Thoda muskurayega aur bemtlb ka sawal puchega

Kisi ko fursat kaha hai jo humare kareeb aayega

Nam ankhe karega aur dil ka haal puchega

Unhe jaane ki zid thi, hume manane ki zid thi

Khauf me dono dil the, phir bhi ajmaane ki zid thi

Hajaaro sawaal the man mein, phir chupaane ki zid thi

Ankho me ashq the labo par khomoshi thi

phir bhi muskurane ki zid thi

Aziz itna hi rakho ki ji sambhal jaaye

Is kadar na chaho ki dum nikal jaaye

Mile ho raasto par to darakhto ka khayal rakho

Na jaane is raah me kaun kab badal jaaye

 

Nafrat sambhaalte sambhalte pyaar ke talabgaar ho gaye

Kisi ki ankho me the, to kisi ke dil me

Waqt badla aur hum apno ke beech kiraayedaar ho gaye

 

Lamhe wo ibaadat me kiye jaaye shumaar

Badi muddat se jo gujaare the maine tere intezaar me

Aaina dekha to dil ko tasalli hui.

Koi to hai jo is sheher mein jaanta hai hamein..

Dil ko andar tak jala deti hain.

Wo shikayatein jo zubaan bayaan nahi karti.

Maine Dekhi hai Chakh kar Tanhai aaj,

Dil ko apni si lagi, aur Dil me hi bas gayi..

Wo miley gairo ko aur muskurana chhooth gaya

Khud me kaid huwe hum aur saara jamaana chut gaya

Mohbbat bhara dil tha ,tukde tukde huwe armaan

Kuch na bacha is jindagi me ,wo yaarana chut gaya

खाली बोतल थी और टुटा हुवा दिल था

पीने का शौक किसे था ,बस भूलना मुस्किल था

महफ़िल में थे हम तनहा तनहा ,

हर सख्श मौजूद वहांमेरे प्यार का कातिल था

इस जमाने का रौब हमे क्यों दिखाते हो ,

मैं हु मासूम मुझे इतना क्यों अजमाते हो

जाओ ढूंढो जिसने फरेब किया हो

मुझे क्यों इस नफरत की आग में जलाते हो

अच्छा हुवा वो चली गई ,हर रोज़ उसे मनाता कौन

खामोस था मैं रिश्तो में ,ख़ामोशी समझाता कौन

एक दिल था जो जिंदा था उसकी मोहब्बत में

फिर बेख्याली में आंखे दिखाता कौन

खाली बोतल थी और टुटा हुवा दिल था

पीने का शौक किसे था ,बस भूलना मुस्किल था

महफ़िल में थे हम तनहा तनहा ,

हर सख्श मौजूद वहांमेरे प्यार का कातिल था

इस जमाने का रौब हमे क्यों दिखाते हो ,

मैं हु मासूम मुझे इतना क्यों अजमाते हो

जाओ ढूंढो जिसने फरेब किया हो

मुझे क्यों इस नफरत की आग में जलाते हो

अच्छा हुवा वो चली गई ,हर रोज़ उसे मनाता कौन

खामोस था मैं रिश्तो में ,ख़ामोशी समझाता कौन

एक दिल था जो जिंदा था उसकी मोहब्बत में

फिर बेख्याली में आंखे दिखाता कौन

कोई उसे बता दे कितना बिखरा बिखरा हुवा हु मैं

उसे खोने के बाद खोने के डर से किस तरह उभरा हुवा हु मैं

न वो सख्श मुझे में है और न मैं खुद में हु

कुछ इस तरह आशिकी में टुकडा टुकड़ा हुवा हु मैं

मोहब्बत और आग में ज्यादा फर्क नही होता

दोनों जलाती है दोनों सताती है

और फिर दोनों पहचान मिटाती है

किसी ने दिल पे ली ,तो किसी ने दिल में ली

जिसने भी की ये दिल्लगी ……

वो रुखसत हुवा इन आँखों से और आंसू छोड़ गया

मैं बस देखता रहा और वो दिल तोड़ गया

न मुझमे जीने की जिंदगी बची और चलने को जमीं

कुछ इस तरह वो हमराही बीच राह में मुह मोड़ गया

लिख लिख कर ख़त जलाते रहे

रो रो कर तुम्हे मिटाते रहे

मुमकिन नही था तेरा आखिरी ख़त जलाना

इसलिए आईने से नज़रे चुराते रहे …

मुझे लिखने का शौक नहीं था

ये sbdh ही मेरे गमो का ठीकाना था

कलम तो उठाई थी मैंने महबूब की याद में

आज सारा सहर मेरे गम का दीवाना था

उसके हाथो में मेहँदी थी ,आँखों में काजल था

माथे पर बिंदी थी ,पैरो में पायल था

हर कोई खुश था उस मफिल में

बस मैं ही था जो आंसूवो का बादल था …

मुझे ये सावन रास नही आता 

हर बूंद मुझे तडपाती है

जब जब गुजरता हु मैं तेरे सहर से

हर गली तेरी याद दिलाती है

सायद तू जींदा है इन हवाओ में

तेरी खुसबू मेरे कदमो से लिपट जाती है

वो कसमे वो वादे मोहब्बत तो बस एक फ़साना है

दिल खेल कर तोड़ देते है लोग ,हमसे आगे ये ज़माना है

दौलत की भूख मन को तौल नही सकती तराजू में

जल कर तेरी यादो में ,हमे ज़माने को दिखाना है

Leave a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.